प्यार शायरी

अजीब सी बस्ती में ठिकाना है मेरा ,,,

जहाँ लोग मिलते कम झांकते ज़्यादा है....For More Visit....




बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना, 
कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में .....For More Visit....


किसी को क्या बताये की कितने मजबूर है हम..
चाहा था सिर्फ एक तुमको और अब तुम से ही दूर है हम।...For More Visit....




वहां तक तो साथ चलो जहाँ तक साथ मुमकिन है, 
जहाँ हालात बदलेंगे वहां तुम भी बदल जाना....For More Visit....




हम ना बदलेंगे वक्त की रफ़्तार के साथ, हम जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा !! 
नजर चाहती है दीदार करना दिल चाहता है प्यार करना...For More Visit....


क्या बताऊँ इस दिल का आलम 
नसीब में लिखा है इंतज़ार करना...For More Visit....




अधूरी मोहब्बत मिली तो नींदें भी रूठ गयी…! 
गुमनाम ज़िन्दगी थी तो कितने सकून से सोया करते थे…!!For More Visit....




अरे कितना झुठ बोलते हो तुम ,,,,
खुश हो और कह रहे हो मोहब्बत भी की है...!!For More Visit....


सुनो… तुम ही रख लो अपना बना कर.. 
औरों ने तो छोड़ दिया तुम्हारा समझकर..!!For More Visit....


कागज़ों पे लिख कर ज़ाया कर दूं मै वो शख़्स नही वो शायर हुँ ,,,,
जिसे दिलों पे लिखने का हुनर आता है...!!For More Visit....




झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ सुबह और शाम ,,,,,
मैं सच बोलने की अदा ने हमसे कई अजीज़ यार छीन लिये....For More Visit....


अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तहा ,,,,
तो हम तुमसे नही तुम हमसे मोहब्बत करते....For More Visit....




अमीरों के लिए बेशक तमाशा है ये जलजला,,,,
गरीब के सर पे तो आसमान टुटा होगा....For More Visit....




नफरत ना करना पगली हमे बुरा लगेगा. . . 
बस प्यार से कह देना अब तेरी जरुरत नही है. .For More Visit....




नफरत ना करना पगली हमे बुरा लगेगा. . . . 
बस प्यार से कह देना अब तेरी जरुरत नही है. .For More Visit....




जो मेरे बुरे वक्त में मेरे साथ है मे उन्हें वादा करती हूँ 
मेरा अच्छा वक्त सिर्फ उनके लिए होगा...For More Visit....




कुछ लोग आए थे मेरा दुख बाँटने 
मैं जब खुश हुआ तो खफा होकर चल दिये...For More Visit....




मालुम था कुछ नही होगा हासिल लेकिन... 
वो इश्क ही क्या जिसमें खुद को ना गवायाँ जाए....For More Visit....




मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका, 
चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना....For More Visit....




मैँने अपना गम आसमान को क्या सुना दिया... 
शहर के लोगों ने बारीश का मजा ले लिया....For More Visit....




में उन ही चीज़ों का शोख़ रखता हु जो मुझे मिलती हे । 
उन चिंजो का नहीं जिनकी इजाजत मेरे माँ बाप नहीं देते .....For More Visit....




मेरा वक्त बदला है... 
रूतबा नहीं तेरी किस्मत बदली है... औकात नहीं ....For More Visit....




मेरे मरने के बाद मेरी कहानी लिखना, 
कैसे बर्बाद हुई मेरी जवानी लिखना.....For More Visit....




मुझे जॉब करने का कोई सोख नहीं है 
ये तो मम्मी-पापा की जींद है की तेरे लिए छोरी कहा से धुंध के लाएंगे....For More Visit....


रुलाने मे अक्सर उन्हीँ लोगो का हाथ होता है 
जो हमेशा कहते है कि तुम हँसते हुए अच्छे लगते हो....For More Visit....




वो तो खिलोने वाले की मजबूरी है 
वरना बच्चो को रोते हुए देखना उसे भी अच्छा नही लगता,...For More Visit....




वो काग़ज़ आज भी फूलों की तरह महकता है.. 
जिस पर उसने मज़ाक़ में लिखा था ..मुझे तुमसे मोहब्बत है....For More Visit....


अब मैं कोई भी बहाना नहीं सुनने वाला .. 
तुम मेरा प्यार.... मुझे प्यार से वापस कर दो....For More Visit....




अब किसी और से मोहब्बत कर लूं, 
तो शिकायत मत करना ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है...For More Visit....




अर्ज़ किया है.. ज़िन्दगी में अगर ग़म न होते.. 
तो शायरों की गिनती में हम न होते....For More Visit....




अगर कहो तो आज बता दूँ मुझको तुम कैसी लगती हो। 
मेरी नहीं मगर जाने क्यों, कुछ कुछ अपनी सी लगती हो...For More Visit....




अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का, 
बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है....For More Visit....




आज टूटा एक तारा देखा, बिलकुल मेरे जैसा था। 
चाँद को कोई फर्क नहीं पड़ा, बिलकुल तेरे जैसा था....For More Visit....




इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!For More Visit....




इतनी कामीयाबि हाँसिल करूंगा की तु ,,,,
जे माफी मांगने के लिये भी लाईन मेँ खडा होना पडेगा...For More Visit....




करेगा जमाना कदर हमारी भी एक दिन देख लेना... 
बस जरा ये भलाई की बुरी आदत छुट जाने दो....For More Visit....




क़दर किरदार की होती है वरना 
कद में तो साया भी इंसान से बड़ होता है....For More Visit....




कांटो से बच बच के चलता रहा उम्र भर... 
क्या खबर थी की चोट एक फूल से लग जायेगी....For More Visit....




काश तुम मेरी मौत होते तो, 
एक दिन जरुर मेरे होते......For More Visit....




क्या किसी से शिकायत करें 
जब अपनी तक़दीर ही बेवफा है...For More Visit....



बिन देखे तेरी तस्‍वीर बना सकते हैं बिन मिले तेरा हाल बना सकते है ,,,
हमारे प्‍यार में इतना दम है की तेरे आसूं अपनी ऑख से गिर सकते हैं ”


दीवाने है तेरे नाम के इस बात से इंकार नहीं कैसे कहे कि तुमसे प्‍यार नहीं ,,,,
कुछ तो कसूर है आपकी आखों का हम अकेले तो गुनहगार नहीं ”,,,


“आपकों प्‍यार करने से डर लगता है आपकों खोने से डर लगता है ,,,,
कहीं आखों से गुम ना हो जाये याद अब रात में सोने से डर लगता है”


बहुत खूब सूरत है आखै तुम्हारी इन्हें बना दो किस्मत हमारी ,,,,
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी,,,,


आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती हैं … आपकी याद बहुत बेकरार करती हैं .. 
जाते जाते कहीं भी मुलाकात हो जाये आप से … तलाश आपको ये नज़र बार बार करती हैं …


क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है! एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है! ,,,
लगने लगते है अपने भी पराये! और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है!,,,


अपने दिल की बात उनसे कह नहीं सकते, बिन कहे भी जी नहीं सकते, ,,,
ऐ खुदा! ऐसी तकदीर बना, कि वो खुद हम से आकर कहे कि, हम आपके बिना जी नही सकते.,,,


एक आरज़ू सी दिल मैं अक्सर छुपाये फिरता हूँ … 
प्यार करता हूँ तुझ से , पर कहने से डरता हूँ … 
नाराज़ ना हो जाओ कहीं मेरी गुस्ताखी से तुम …. 
इसलिए खामोश रह कर भी ,तेरी धड़कन को सुना करता हूँ


खोया हूं तुम्हारे खयालो मे जमाने का कोई होश नही ना समझो 
मुझे तुम दीवाना इतना भी मै मदहोश नही चला ,,,
तेरा जादू कुछ ऐसा धडकन मेरी खामोश नही नजरें बन गई
अब तेरी मुझमें इनका आघोश नही,,,,


वो आपका पलके झुका के मुस्कुराना वो आपका नजरें झुका के शर्मना,,, 
वैसे आपको पता है या नहीं हमें पता नहीं पर इस दिल को मिल गया है उसका नज़राना...


गुज़रे है आज इश्‍क के उस मुकाम से, 
नफरत सी हो गयी है मोहब्बत के नाम से ....


“माना के मर जाने पर भुला दिए जाते है लोग ज़माने में., 
पर मैं तो अभी जिन्दा हूँ फिर कैसे उसने मुझे भुला दिया..??


आँखों को जब किसी की चाहत हो जाती है उसे देख के ही दिल को राहत हो जाती है 
कैसे भूल सकता है कोई किसी को ‘ऐ’ दोस्त जब किसी को किसी की आदत हो जाती है 


मोहोब्बत कुछ इस कदर हो जाती है,,, 
उसे के रब से पहले उसकी इबादत हो जाती है,,,


तुम्हारी ज़िद बेमानी है दिल ने हार कब मानी है ...
कर ही लेगा वश में तुम्हें आदत इसकी पुरानी है.,,
Previous
Next Post »