माँ के कदमो को ही जन्नत मानता हुँ....

मुझे कोई और जन्नत का नहीं पता क्योंकि.... 
मैं माँ के कदमो को ही जन्नत मानता हुँ....!!



Previous
Next Post »