कि तेरे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं....


तेरे हाथ की मैं वो लकीर बन जाऊं सिर्फ मैं ही तेरा मुकद्दर तेरी तक़दीर बन जाऊं,,,,
इतना चाहूँ मैं तुम्हें कि तू हर रिश्ता भूल जाये और सिर्फ मैं ही तेरे हर रिश्ते की तस्वीर बन जाऊं...!!


Previous
Next Post »